टीकाकरण प्रमाण पत्र पर मोदी की तस्वीर: केरल उच्च न्यायालय से पूछा, निर्वाचित प्रधानमंत्री की तस्वीर लगाने में क्या गलत है | भारत समाचार

कोच्चि: केरल उच्च न्यायालय सोमवार को आश्चर्य हुआ कि देश के लोगों द्वारा सत्ता में चुने जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाले कोविड -19 टीकाकरण प्रमाणपत्र में क्या गलत था।
प्रमाण पत्र से प्रधानमंत्री की तस्वीर हटाने की मांग वाली याचिका की सुनवाई की जांच करते हुए न्यायमूर्ति पीवी कुन्हीकृष्णन ने याचिकाकर्ता से पूछा कि क्या उन्हें प्रधानमंत्री पर शर्म आती है।
न्यायाधीश ने कहा कि प्रधानमंत्री को देश के लोगों ने सत्ता के लिए चुना है और इसलिए प्रमाण पत्र पर उनकी तस्वीर लगाने में क्या गलत है।
जब याचिकाकर्ता के वकील ने अदालत को बताया कि अन्य देशों में ऐसी कोई प्रथा नहीं है, तो न्यायाधीश ने मौखिक रूप से टिप्पणी की, “उन्हें अपने प्रधान मंत्री पर गर्व नहीं हो सकता है, हमें अपने प्रधान मंत्री पर गर्व है।”
अदालत ने आगे कहा, “आप (याचिकाकर्ता) प्रधानमंत्री से शर्मिंदा क्यों हैं? वह लोगों के जनादेश से सत्ता में आए… हमारे अलग-अलग राजनीतिक विचार हो सकते हैं, लेकिन वह अभी भी हमारे पीएम हैं।”
याचिकाकर्ता के वकील पीटर मायलीपरम्पिल ने कहा कि प्रमाण पत्र एक निजी स्थान है जिसमें व्यक्तिगत विवरण रिकॉर्ड पर हैं और इसलिए, किसी व्यक्ति की गोपनीयता में दखल देना अनुचित था।
उन्होंने तर्क दिया कि प्रमाण पत्र में प्रधानमंत्री की तस्वीर जोड़ना किसी व्यक्ति के निजी स्थान में घुसपैठ है।
इस पर कोर्ट ने कहा कि देश के 100 करोड़ से ज्यादा लोगों को सर्टिफिकेट पर प्रधानमंत्री की फोटो होने से कोई दिक्कत नहीं लगती और याचिकाकर्ता से पूछा, ‘क्यों?
अदालत ने कहा कि वह इस बात की जांच करेगी कि क्या याचिका में कोई दम है और अगर नहीं तो वह मामले का निपटारा कर देगी।
एक घंटे से अधिक की लंबी सुनवाई के दौरान, याचिकाकर्ता की ओर से पेश वकील अजीत जॉय ने कहा कि किसी के प्रधान मंत्री पर गर्व करना या न करना व्यक्तिगत पसंद था।
साथ ही, जॉय ने अदालत से कहा कि यह राजनीतिक मतभेदों का मामला नहीं है, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने जनता के पैसे का इस्तेमाल करने वाले विज्ञापनों और अभियानों के लिए दिशानिर्देश निर्धारित किए हैं।
उन्होंने कहा कि प्रमाण पत्रों पर फोटो होने से मतदाताओं के दिमाग पर भी असर पड़ेगा और यह मुद्दा हाल के राज्य विधानसभा चुनावों के दौरान उठाया गया था।
केंद्र सरकार ने याचिका का विरोध करते हुए कहा कि यह एक जनहित याचिका है।
याचिकाकर्ता, एक वरिष्ठ नागरिक, ने अपनी याचिका में दलील दी है कि टीकाकरण प्रमाण पत्र पर प्रधानमंत्री की तस्वीर मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: