Uttarakhand landslide

Uttarakhand landslide: राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल ने 200 से अधिक लोगों को बचाया।

Uttarakhand landslide: चमोली जिले के रैनी गांव के पास तमस इलाके में भूस्खलन के कारण फसे कई लोग

चमोली (उत्तराखंड) : भूस्खलन से फंसे लोगों को मिली राहत, चमोली जिले के रैनी गांव के पास तमस इलाके में भूस्खलन के कारण फसे थे काफी लोग।

SDRF (राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल) (एसडीआरएफ) की टीम ने सोमवार 23 अगस्त को 200 से अधिक लोगो की बचायी जान।

अगले पांच दिनों के लिए IMD (भारत मौसम विज्ञान विभाग) के द्वारा उत्तराखंड में 24 अगस्त से 28 अगस्त तक भारी बारिश की चेतावनी दी है, साथ ही आंधी और बिजली गिरने का खतरा भी है।

कुछ दिन पहले, एक सप्ताह के लिए चमोली जिले के जोशीमठ में भारत-चीन सीमा को जोड़ने वाली नीति सीमा सड़क के इलाके में बार-बार होने वाले भूस्खलन को मद्देनजर रखते हुए अवरुद्ध कर दिया गया।

BRO (सीमा सड़क संगठन) (बीआरओ) द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार, घाटी में भरी बारिश और लैंडस्लैड के कारण सड़क ख़राब हो गई, जिसके कारण घाटी के लोग अपने घरों के अंदर फंस गए थे।

Uttarakhand landslide: बीआरओ (Border Roads Organization) ने कहा:

बीआरओ द्वारा सुचना मिली है की उनको भूस्खलन के कारण सड़क खोलने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।

पैदल चलने वालों की आवाजाही को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पढ़ रहा है।

BRO (बीआरओ) ने कहा हम राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की मदद ले रहे हैं। हालाँकि लोगों के लिए एक दूसरा रास्ता बनाया जा रहा है।

बचाव अभियान जारी है।

इसी कारण, घाटी के एक दर्जन गांवों के लोग एक सप्ताह से अपने घरों के अंदर सुविधाओं की आपूर्ति नहीं होने के कारण फंसे हुए हैं।

साथ ही भारी बारिश ने उत्तराखंड के साथ-साथ हिमाचल प्रदेश में भूस्खलन और अचानक बाढ़ के साथ हिल स्टेशनों में तबाही मचा दी है, जिससे जान-माल का नुकसान हुआ है।

अपने घरों में सुरक्षित रहें और मास्क व सेनेटाइजर का प्रयोग करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: